Loading...
Art and Culture

A ghazal by Jaun Elia

अभी इक शोर सा उठा है कहीं
कोई ख़ामोश हो गया है कहीं
है कुछ ऐसा कि जैसे ये सब कुछ
इस से पहले भी हो चुका है कहीं
तुझ को क्या हो गया कि चीज़ों को
कहीं रखता है ढूँढता है कहीं
जो यहाँ से कहीं न जाता था
वो यहाँ से चला गया है कहीं
आज शमशान की सी बू है यहाँ
क्या कोई जिस्म जल रहा है कहीं
हम किसी के नहीं जहाँ के सिवा
ऐसी वो ख़ास बात क्या है कहीं
तू मुझे ढूँड मैं तुझे ढूँडूँ कोई
हम में से रह गया है कहीं
कितनी वहशत है दरमियान-ए-हुजूम
जिस को देखो गया हुआ है कहीं
मैं तो अब शहर में कहीं भी नहीं
क्या मिरा नाम भी लिखा है कहीं
इसी कमरे से कोई हो के विदाअ’
इसी कमरे में छुप गया है कहीं
मिल के हर शख़्स से हुआ महसूस
मुझ से ये शख़्स मिल चुका है कहीं
~ जौन एलिया
Selected by: Dhrupad Mehta
Image Courtesy: Google
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Fotbalove Dresy futbalove dresy na predaj maglie calcio online billige fotballdrakter billige fodboldtrøjer maillot de foot personnalisé